भौतिक विज्ञान : भौतिक विज्ञान क्या है, परिभाषा, शाखाएँ और महत्त्व – Physics in Hindi

भौतिक विज्ञान

हैल्लो दोस्तों, आज के आर्टिकल हम भौतिक विज्ञान(Physics in Hindi) के बारे में जानकारी प्राप्त करने वाले है। जिसमें हम भौतिक विज्ञान से संबंधित सम्पूर्ण जानकारी प्राप्त करेंगें। जिसमें भौतिक विज्ञान का विकास, भौतिक शब्द की उत्पत्ति, फिजिक्स क्या है, भौतिक विज्ञान की परिभाषा, भौतिक विज्ञान के पिता, भौतिक विज्ञान की शाखाएँ और भौतिक विज्ञान के महत्व आदि के बारे में चर्चा करने वाले है। तो चलिए बढ़ते है आज के आर्टिकल की ओर…

Table of Content

विज्ञान (Science)

भौतिक विज्ञान के बारे में जानने से पहले हम विज्ञान के बारे में जानकारी होना बहुत जरूरी है। अतः सर्वप्रथम जानते है कि विज्ञान क्या है ?

विज्ञान शब्द की उत्पत्ति

दोस्तों विज्ञान को अंग्रेजी में Science कहते है। Science लैटिन शब्द Scientia(साइंशिया) से बना है जिसका अर्थ है: ‘जानना’।

विज्ञान किसे कहते है ?

दोस्तो विज्ञान शब्द से अभिप्राय ‘‘विशेष ज्ञान’’ से है। यह ज्ञान प्रकृति में उपस्थित वस्तुओं के क्रमबद्ध अध्ययन से प्राप्त किया जाता है। इसे ही विज्ञान कहा जाता है।

विज्ञान की परिभाषा

व्यापक रूप से प्रकृति का व्यवस्थित अध्ययन विज्ञान कहलाता है।

या

प्रकृति में उपस्थित वस्तुओं के क्रमबद्ध अध्ययन से अर्जित ज्ञान और इस ज्ञान के आधार पर वस्तु की प्रकृति और व्यवहार जैसे गुण आदि के बारे में अध्ययन करना ही विज्ञान कहलाता है।

या

भौतिक जगत में जो भी घटित होता है उसका क्रमबद्ध अध्ययन विज्ञान कहलाता है।

या

व्यक्ति द्वारा किसी ज्ञान या वस्तु को सुव्यवस्थित तरीके से प्रदर्शित करना ही विज्ञान हैं।

भौतिक विज्ञान (Physics in Hindi)

अब हम भौतिक विज्ञान के बारे में जानते है कि भौतिक विज्ञान क्या है (Bhautik Vigyan Kya Hai) ?

भौतिक शब्द की उत्पत्ति

प्राचीन काल से ‘‘भौतिक’’ शब्द का प्रयोग वेदों में किया जाता रहा है। जिसका अभिप्राय है ‘प्राकृतिक’। इसी से भौतिक शब्द की उत्पत्ति हुई है। शब्द Physics ग्रीक शब्द Fusis से बना है। जिसका अभिप्राय है ‘प्रकृति’।

भौतिक विज्ञान क्या है ?

Physics in Hindi
Physics in Hindi

Physics in Hindi : दैनिक जीवन में होने वाली अनेक प्राकृतिक घटनाएँ जैसे वर्ष के मौसम, बादलों का बनना, वर्षा का होना, चन्द्र तथा सूर्यग्रहण आदि की व्याख्याएँ भौतिक विज्ञान के अन्तर्गत आते है। इस प्रकार विज्ञान की वह शाखा जिसमें प्रकृति द्वारा/प्राकृतिक गुणों तथा व्यवहारों के बारे में अध्ययन किया जाता है, भौतिक विज्ञान के अन्तर्गत आता है।

भौतिक विज्ञान की परिभाषा

विज्ञान की वह शाखा जिसमें प्रकृति में उपस्थित वस्तुओं के भौतिक गुणों और विभिन्न प्राकृतिक ऊर्जाओं का सुव्यवस्थित अध्ययन किया जाता है। उसे भौतिक विज्ञान कहते है।

या

विज्ञान की वह शाखा जिसमें प्रकृति तथा प्राकृतिक घटनाओं की व्याख्या की जाती है, उसे भौतिक विज्ञान कहते है।

मापन का विज्ञान

भौतिकी में अधिकतम सम्भव शुद्धता के साथ मात्राओं को नापने के प्रयास किये जाते है इसीलिए भौतिकी को ‘मापन का विज्ञान’ भी कहते है।

आधुनिक भौतिकी के पिता किसे कहा जाता है ?

दोस्तों आधुनिक भौतिकी के पिता गैलीलियो गैलीली एंव अल्बर्ट आइंस्टीन को कहा जाता है।

भौतिक विज्ञान की शाखाएँ

दोस्तों हमारे आस-पास के समस्त साधान भौतिकी पर कार्यरत है। जैसे: मोटरगाड़ी, कार, बस, रेलगाड़ी आदि में प्रयोग होने वाले दहन ईंजन भौतिक विज्ञान की शाखा ऊष्मागतिकी पर कार्य करते है। इसी प्रकार बहुत से उदाहरण है जो भौतिकी के अन्तर्गत आते है।

मुख्य रूप से भौतिक विज्ञान की दो शाखाएँ है। परन्तु भौतिक विज्ञान को कुछ उपशाखाओं में भी बाँटा गया है। जो निम्न प्रकार है:

भौतिक विज्ञान की शाखाएँ:

  1. चिरसम्मत भौतिकी
  2. आधुनिक भौतिकी

चिरसम्मत भौतिकी

दोस्तों 19वीं शताब्दी तक की भौतिक विज्ञान को चिरसम्मत भौतिकी के अन्तर्गत रखा गया है। चिरसम्मत भौतिकी की उपशाखाएँ निम्न प्रकार है:

  • यांत्रिकी
  • ऊष्मागतिकी
  • विद्युत चुम्बकत्व
  • प्रकाशिकी
  • स्थिर वैद्युतिकी
  • ध्वनि विज्ञान/भौतिकी

यांत्रिकी

भौतिक विज्ञान की वह शाखा जिसमें वस्तु अर्थात् पिण्डों की गति के बारे में अध्ययन किया जाता है, यांत्रिकी के अन्तर्गत आता है।

उष्मागतिकी

भौतिक विज्ञान की वह शाखा जिसमें किसी पदार्थ के अणुओं को दिए गए ताप से उनके गुण तथा व्यवहार के बारे में पता चलता है/अभिव्यक्त किया जाता है, उष्मागतिकी के अन्तर्गत आता है।

विद्युत चुम्बकत्व

भौतिक विज्ञान की वह शाखा जिसके अन्तर्गत चुम्बक के गुण तथा उसके व्यवहारों के बारें में जो अध्ययन किया जाता है, विद्युत चुम्बकत्व के अन्तर्गत आता है।

प्रकाशिकी

भौतिक विज्ञान की वह शाखा जिसमें प्रकाश के गुण तथा व्यवहार के बारे में जो अध्ययन किया जाता है, प्रकाशिकी के अन्तर्गत आता है।

प्रकाशिकी का पुनः दो भागों में विभक्त किया गया है:

  • तरंग प्रकाशिकी
  • किरण प्रकाशिकी

प्रकाशिकी में प्रकाश के परावर्तन, अपवर्तन, विवर्तन, घ्रुवण आदि के बारे में अध्ययन करते हैं।

स्थिर वैद्युतिकी

भौतिक विज्ञान की वह शाखा जिसके अन्तर्गत स्थिर विद्युत आवेशों के बारे में जो अध्ययन किया जाता है, स्थिर वैद्युतिकी के अन्तर्गत आता हैं।

ध्वनि भौतिकी

भौतिकी विज्ञान की वह शाखा जिसके अन्तर्गत ध्वनि तरंग के गुण तथा व्यवहारों के बारे में जो अध्ययन किया जाता है, ध्वनि भौतिकी के अन्तर्गत आता हैै।

आधुनिक भौतिकी

दोस्तों आधुनिक भौतिकी के अन्तर्गत 20वीं शताब्दी से अब तक की भौतिक विज्ञान का अध्ययन किया जाता है। आधुनिक भौतिक विज्ञान की कुछ उपशाखाएँ निम्न प्रकार है:

  • इलेक्ट्राॅनिक्स
  • परमाणु भौतिकी
  • नाभिकीय भौतिकी
  • अपेक्षिकता
  • क्वाण्टम यांत्रिकी/भौतिकी

इलेक्ट्राॅनिक्स

भौतिक विज्ञान की वह शाखा जिसके अन्तर्गत पदार्थों (अर्द्धचालक, कुचालक, अतिचालक) में प्रवाहित धारा से उसके गुणों तथा व्यवहारों के बारे में जो अध्ययन किया जाता है। इलेक्ट्राॅनिक्स के अन्तर्गत आता है।

जैसे : डायोट, ट्राजिस्टर।

परमाणु भौतिकी

भौतिकी की वह शाखा जिसमें किसी पदार्थ के परमाणु के गुण तथा उसके व्यवहार के बारे में अध्ययन किया जाता है। परमाणु भौतिकी के अन्तर्गत आता है।

जैसे : बोर माॅडल, रदरफोर्ड माॅडल, थाॅमसन माॅडल।

नाभिकीय भौतिकी

भौतिकी की वह शाखा जिसके अन्तर्गत परमाणु में नाभिक के गुण तथा उसके व्यवहार के बारे में जो अध्ययन किया जात है। नाभिकीय भौतिकी के अन्तर्गत आता हैं।

आपेक्षिकता

भौतिकी की वह शाखा जिसके अन्तर्गत किसी पिण्ड की गति जसका वेग प्रकाश के वेग के समान हो, का अध्ययन किया जाता है।

क्वाण्टम भौतिकी

भौतिकी की वह शाखा जिसमें किसी पदार्थ के सुक्ष्म कणों/भागों के बारे में अध्ययन किया जाता है।

नोट : क्वाण्टम भौतिकी चिरसम्मत भौतिकी व आधुनिक भौतिकी को जोड़ने की एक कड़ी हैं।

भौतिक विज्ञान की अन्य शाखाएँ

  • भु-भौतिकी
  • रसायन भौतिकी
  • जीव भौतिकी
  • चिकित्सा भौतिकी
  • खगोलिय भौतिकी आदि।

प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में भौतिक विज्ञान का महत्त्व

भौतिक विज्ञान का मानव जीवन व प्रौद्योगिकी विकास के लिए बहुत अधिक महत्त्व रखता है। प्रत्येक क्षेत्र में भौतिक विज्ञान में अपनी ख्याति प्राप्त की है। चलिए इसके कुछ उदाहरण को देखते है:

  1. चिकित्सा के क्षेत्र में सोनोग्राफी, एम.आर.आई. मशीन, एक्स-रे आदि का निर्माण भौतिक विज्ञान की ही देन है।
  2. रासायनिक विज्ञनन के क्षेत्र में रासायनिक दवाइयों के निर्माण हेतु प्रयुक्त मशीने भौतिक विाान की ही देन है।
  3. गणित के क्षेत्र में दिये गये सिद्धान्त प्रमेय आदि का सत्यापन अर्थात् सूत्र भौतिक विज्ञान के अन्तर्गत की आते है।
  4. विद्युत ऊर्जा का उत्पादन नाभिकीय विखण्डन अभिक्रिया द्वारा होता है। यह भी भौतिक विज्ञान की देन है।
  5. राॅकेट के नोधन में न्यूटन की गति का द्वितीय व तृतीय नियम के उपयोग में।
  6. किसी वाहन की गति के निर्धारण के लिए न्यूटन की गति का द्वितीय व तृतीय नियम।
  7. वायुयान की गति के लिए बरनूली/बरनोली के सिद्धान्त का उपयोग आदि।

भौतिक विज्ञान तथा समाज में संबंध

भौतिक विज्ञान पर आधारित खोजों का समाज पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ा है। भौतिकी के आविष्कारों ने समाज का चेहरा ही बदल दिया है। हमारा जीवन हमारे पूर्वजों के तुलना में अधिक आरामदायक हो गया है। रेडियो और टेलीविजन की खोज ने यह संभव कर दिया हे कि हमारे चारों ओर संसार के किसी भी कोने में हो रही घटनाओं को हम सुन और देख सकते है।

कम्प्यूटर हमारे लिए बहुत अधिक उपयोगी हैं इसकी सहायता से जटिल गणनाओं को आसानी से हल किया जा सकता हैं टेलीविजन, मोबाइल, टेलीप्रिंटर की सहायता से विश्व के दूरस्थ भागों में भी संदेशों का आदान-पद्रान तुरन्त हो जाता हैं आवागमन के साधनों के कारण विभिन्न देशों तथा प्रदेशों के लोगों का आना जाना सुगम हो गया है। भौतिक विज्ञान के विकास के कारण ही आज जीवन आसान व सुविधाजनक हो गया है।

महत्वपूर्ण प्रश्न

फिजिक्स को हिंदी में क्या कहते हैं ?

भौतिकी / भौतिक विज्ञान


भौतिक विज्ञान को English में क्या कहते हैं ?

Physics (फिजिक्स)

तो दोस्तों आज के आर्टिकल में हमने भौतिक विज्ञान (Physics in Hindi) को अच्छे से समझ लिया है। अगर आपका कोई प्रश्न है तो नीचे काॅमेन्ट में पूछ सकते है। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ शेयर जरूर करें। और इसी तरह की बेहतरीन जानकारी के लिए हमारे साथ बने रहें।

धन्यवाद !

Physics Notes in Hindi

गतिज ऊर्जा : गतिज ऊर्जा क्या है, परिभाषा, सूत्र, विमिय सूत्र, गुण और उदाहरण

कार्य ऊर्जा और शक्ति

विद्युत फ्लक्स : विद्युत फ्लक्स क्या है, परिभाषा, मात्रक, विमीय सूत्र तथा उदाहरण

हाइगेन्स का तरंग सिद्धान्त : तरंगाग्र के प्रकार , परिभाषा और अपवर्तन व परावर्तन नियमों की व्याख्या

P-N संधि डायोड

कृत्रिम उपग्रह

चुम्बक | चुम्बक की परिभाषा | चुम्बक के प्रकार | गुण | उपयोग

ऊर्जा के स्रोत

गति के नियम – न्यूटन के गति के नियम

विद्युत क्षेत्र

ओम का नियम

विद्युत चुम्बकीय प्रेरण

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top