विज्ञान किसे कहते हैं : विज्ञान की परिभाषा क्या है ? (What is Science in Hindi) व्हाट इस साइंस इन हिंदी

What is Science in Hindi

नमस्कार दोस्तों, आज के आर्टिकल में हम विज्ञान(Science) के बारें में जानकारी प्राप्त करने वालें है। जिसमें हम जानेंगें कि विज्ञान किसे कहतें है(what is science in hindi), विज्ञान की परिभाषा क्या है(Vigyan Ki Paribhasha), विज्ञान की शाखाएँ कौन-कौनसी है और विज्ञान का क्या महत्व है आदि के बारे में विस्तार से चर्चा करेंगें। तो चलिए बढ़ते है आज के आर्टिकल की ओर – व्हाट इस साइंस इन हिंदी

दोस्तों हमारा प्रयास यह है कि हम आपको विज्ञान के बारें में बिल्कुल आसान भाषा समझा सकें। इसलिए हम क्रमबंध तरिके से आपके सामने विज्ञान को परिभाषित करेंगें। तो सबसे पहले हम विज्ञान की परिभाषा क्या है ? इसके बारें में जानतें है।

Table of Content

विज्ञान की परिभाषा क्या है – Definition of Science in Hindi

Definition of Science in Hindi
Definition of Science in Hindi

Vigyan Ki Paribhasha : ‘‘प्रयोगों तथा प्रेक्षणों पर आधारित प्रकृति के सुव्यवस्थित और क्रमबद्ध ज्ञान को ही विज्ञान कहते है।’’

दोस्तों यदि आप इस परिभाषा को ध्यान से देखेंगें तो इसके शुरूआत में दो बहुत ही महत्वपूर्ण शब्द प्रयोग किए गए है जो है ‘प्रयोगों’ तथा ‘प्रेक्षणों’। यह दोनों ही शब्द(‘प्रयोगों’ तथा ‘प्रेक्षणों’) विज्ञान के मजबूत आधार है। इन्हीं दोनों पर विज्ञान आधारित है और यहीं से हम अपने प्रश्न विज्ञान किसे कहतें है, कि पुष्टि करेंगें।

विज्ञान किसे कहते हैं – What is Science in Hindi

Vigyan Kise Kahate Hain : आसान भाषा में कहें तो हर वह कार्य जो प्रयोगों और प्रेक्षणों के आधार पर स्पष्ट/साबित की जा सकती हो, उसे ही विज्ञान कहतें है।

अभी प्रश्न आता है कि ज्ञान और विज्ञान में अन्तर क्या है, आखिर क्यू ज्ञान और विज्ञान एक-दूसरे से भिन्न है, तो चलिए इसे भी समझतें है।

ज्ञान और विज्ञान में अन्तर

ज्ञान : किसी वस्तु/कार्य के बारे में जानकारी, ज्ञान कहलाता है।

विज्ञान : प्रयोगों तथा प्रेक्षणों पर आधारित ज्ञान, विज्ञान कहलाता है।

दोस्तों किसी भी प्रकार की जानकारी या सूचना ज्ञान कहलाती है। लेकिन यदि किसी जानकारी या सूचना को प्रयोगों तथा प्रेक्षणों के आधार पर सिद्ध कर दिया जाए तो वह विज्ञान बन जाती है।

यह भी जानें
आधे-अधुरे ज्ञान को अज्ञान कहा जाता है।

मुझे आशा है कि आपको ज्ञान और विज्ञान में अन्तर समझ में आ गया होगा। चलिए जानतें है कि विज्ञान क्या है ?

विज्ञान क्या है – साइंस

Vigyan Kya Hain : दोस्तों हम अपने दैनिक जीवन में जो भी कार्य किसी नए तरीके से करतें है, वह विज्ञान है। इस प्रकार हम कह सकतें है कि कोई नई खोज ही विज्ञान है। इसके अलावा दिनभर में हम जितनी भी वस्तुओं को प्रयोग करते हैं फिर चाहे वो छोटी सी सुई हो या बड़ी-बड़ी मोटरगाड़ियाँ सभी विज्ञान की ही देन है। इसी के साथ हमारे शरीर में होने वाली सभी क्रियाएँ-प्रतिक्रियाएँ और बाहरी वातावरण में परिवर्तन सब विज्ञान का ही स्वरूप है। इस प्रकार विज्ञान हमारी जिंदगी का एक अभिन्न अंग बन चुका है। जिसे नकारा नहीं जा सकता। क्योंकि हमारे चारों ओर विज्ञान किसी न किसी स्वरूप में व्यापत है।

अब हम विज्ञान शब्द की उत्पति और अर्थ कें बारें में जानने वालें है।

विज्ञान शब्द का अर्थ – Science Meaning in Hindi

दोस्तों विज्ञान शब्द का शाब्दिक अर्थ है – वि + ज्ञान अर्थात् ‘‘विशिष्ट ज्ञान’’। विज्ञान को इंग्लिश में Science कहा जाता है।

Science शब्द की उत्पत्ति

Science शब्द की उत्पत्ति लैटिन भाषा के शब्द सांइटिया से हुई है जिसका अर्थ होता है ‘‘जानना’’। इस प्रकार किसी भी नई जानकारी के बारे में क्रमबद्ध अध्ययन करना ही Science अर्थात् विज्ञान है।

विज्ञान की शाखाएँ – Science Branches in Hindi

मुख्यतः विज्ञान की निम्न दो शाखाएँ है:

  • प्राकृतिक विज्ञान
  • सामाजिक विज्ञान

प्राकृतिक विज्ञान

विज्ञान की वह शाखा जो प्रकृति से संबंधित है, प्राकृतिक विज्ञान कहलाती है।

प्राकृतिक विज्ञान को भी पुनः दो भागों में बाँटा गया है जो निम्न प्रकार है:

  • भौतिकिय विज्ञान
  • जैव विज्ञान

भौतिकिय विज्ञान

पृथ्वी पर या पृथ्वी के बाहर पाए जाने वाली सभी वस्तु का अध्ययन, भौतिकिय विज्ञान के अन्तर्गत आता है।

भौतिकिय विज्ञान को भी पुनः दो भागों में बाँटा गया है जो निम्न प्रकार है:

  • भौतिक विज्ञान/भौतिकी
  • रसायन विज्ञान
भौतिक विज्ञान

विज्ञान की वह शाखा जिसमें वस्तुओं की केवल भौतिक अवस्था के बारे में अध्ययन किया जाता है, भौतिक विज्ञान या भौतिकी कहलाती है।

रसायन विज्ञान

विज्ञान की वह शाखा जिसमें वस्तुओं के रसायनिक गुणों का अध्ययन किया जाता है, रसायन विज्ञान कहलाती है।

जैव विज्ञान

पृथ्वी पर उपस्थित सभी जैविक प्राणियों का अध्ययन, जैव विज्ञान के अन्तर्गत आता है।

जैव विज्ञान के अन्तर्गत ही जीव विज्ञान आता है।

जीव विज्ञान:

विज्ञान की वह शाखा जिसमें सभी सजीवों और उनकी क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है, जीव विज्ञान कहलाता है।

सामाजिक विज्ञान

विज्ञान की वह शाखा जो समाज से जुड़ी हो, सामाजिक विज्ञान कहलाती है। इसमें हमें इतिहास, भूगोल शास्त्र, राजनितिक शास्त्र, कानून आदि देखनें को मिलता है।

तो दोस्तों यह थी विज्ञान की कुछ मुख्य शाखाएँ, जिनके बारे में संक्षिप्त में जाना। इसके अलावा भी विज्ञान की बहुत सारी शाखाएँ होती है जिनमें से अधिकतर भौतिक विज्ञान और रसायन विज्ञान के अन्तर्गत आती है। इसलिए विज्ञान की मुख्य तीन शाखाएँ शेष रहती है जो निम्न है:

  • जीव विज्ञान
  • भौतिक विज्ञान
  • रसायन विज्ञान

तो दोस्तों अब तक हमने विज्ञान की शाखाओं के बारे में संक्षिप्त में जाना। परन्तु अभी हम इन्हें विस्तार से समझने वालें है।

भौतिक विज्ञान – Physics in Hindi

परिभाषा : ‘‘विज्ञान की वह शाखा जिसके अन्तर्गत द्रव्य तथा ऊर्जा और उनकी परस्पर क्रियाओं का अध्ययन किया जाता है, भौतिक विज्ञान कहलाती है।’’

भौतिक विज्ञान में किसी वस्तु के भौतिक मानकों का अध्ययन किया जाता है। इसे इंग्लिस में Physics कहतें है।

Physics शब्द की व्युत्पति

दोस्तों Physics शब्द की व्युत्पति ग्रीक भाषा के शब्द ‘फुसिस (Fusis)’ से हुई है, जिसका शाब्दिक अर्थ है ‘‘प्रकृति’’।

भौतिक विज्ञान की शाखाएँ

दोस्तों भौतिक विज्ञान को मुख्यतः निम्न दो भागों में विभाजित किया गया है:

  • चिरसम्मत भौतिकी
  • आधुनिक भौतिकी

चिरसम्मत भौतिकी

भौतिक विज्ञान की इस शाखा में यांत्रिकी, उष्मागतिकी, ध्वनिकी, प्रकाशिकी और वैद्युतगतिकी आदि का अध्ययन किया जाता है, चिरसम्मत भौतिकी कहलाती है।

आधुनिक भौतिकी

भौतिक विज्ञान की इस शाखा में परमाणु, नाभिक, संघनित द्रव, आपेक्षिकता का सिद्धान्त, क्वांटम-यांत्रिकी आदि का अध्ययन किया जाता है, आधुनिक भौतिकी कहलाती है।

भौतिक विज्ञान का पिता किसे कहा जाता है ?

न्यूटन को भौतिक विज्ञान का पिता कहा जाता है।


आधुनिक भौतिकी का पिता किसे कहा जाता है ?

गैलेलियो और आइंसटिन को आधुनिक भौतिकी का पिता कहा जाता है।

रसायन विज्ञान – Chemisty in Hindi

परिभाषा : ‘‘विज्ञान की वह शाखा जिसके अन्तर्गत पदार्थों के संघटन, गुणों और रासायनिक अभिक्रिया के दौरान इनमें हुए परिवर्तनों का अध्ययन किया जाता है, रसायन विज्ञान कहलाती है।’’

रसायन विज्ञान में पदार्थों के रसायनिक गुणों का अध्ययन किया जाता है। इसे इंग्लिस में Chemistry कहतें है।

Chemistry शब्द की व्युत्पत्ति

Chemistry शब्द की व्युत्पत्ति ‘कीमिया‘ शब्द से हुई है जिसे लेकर अलग-अलग मत है।

रसायन विज्ञान की शाखाएँ

दोस्तों रसायन विज्ञान की शाखाओं के बारे में बात की जाए तो भौतिक रसायन, अकार्बनिक रसायन, कार्बनिक रसायन, वैश्लेषिक रसायन आदि रसायन विज्ञान की परम्परागत शाखाएँ है। लेकिन बदलते समय के साथ रसायन विज्ञान में कुछ नई शाखाएँ जुड़ी है जैसे – औद्योगिक रसायन, जैव रसायन, नाभिकीय रसायन, भू रसायन आदि। इस प्रकार आज रसायन विज्ञान एक व्यापक रूप ले चुका है।

रसायन विज्ञान का जनक किसे कहा जाता है ?

लेवोशिये को आधुनिक रसायन विज्ञान का जनक कहा जाता है।

जीवविज्ञान – Biology in Hindi

परिभाषा : ‘‘विज्ञान की वह शाखा जिसमें सजीवों की उत्पत्ति, संरचना, वर्गीकरण, कार्यशीलता तथा उनमें होने वाली सभी प्रक्रियाओं का अध्ययन किया जाता है, जीवविज्ञान कहलाती है।’’

जीवविज्ञान अर्थात् जीवों के बारे में अध्ययन। जीवविज्ञान को इंग्लिश में Biology कहा जाता है।

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट हो रहा है जीवविज्ञान अर्थात् जीवन का विज्ञान/ज्ञान। जीवविज्ञान में सभी संजीवों में होने वाली सभी प्रकार की उपचय या उपापचय क्रियाएँ आदि जो सजीव के जन्म से मुत्यु तक होती है, का अध्ययन किया जाता है।

Biology शब्द की व्युत्पत्ति

Biology शब्द ग्रीक भाषा के दो शब्दों बायोस (Bios-Life) और लोगोस (Logos-Study) से मिलकर बना है, जिसका शाब्दिक अर्थ होता है Study of life यानी ”जीवों का अध्ययन”।

जीवविज्ञान की शाखाएँ

दोस्तों जीवविज्ञान को मुख्यतः दो शाखाओं में विभाजित किया गया है जो निम्न है:

  • प्राणी विज्ञान
  • पादप विज्ञान

प्राणी विज्ञान

विज्ञान की वह शाखा जिसमें प्राणियों तथा जीव जंतुओं के गुणों और व्यवहार का अध्ययन किया जाता है, प्राणी विज्ञान कहलाता है।

पादप विज्ञान

विज्ञान की वह शाखा जिसमें वनस्पतियों तथा पेड़-पौधों के गुणों और व्यवहार का अध्ययन किया जाता है, पादप विज्ञान कहलाता है।

जीव विज्ञान का जनक किसे कहा जाता है ?

अरस्तु को जीवविज्ञान का जनक माना जाता है।


जीव विज्ञान का पिता किसे कहा जाता है ?

थियोफ्राइटस को जीवविज्ञान का पिता कहा जाता है।

विज्ञान का महत्त्व – Importance of Science in Hindi

तो दोस्तों अब हम विज्ञान के महत्व को समझेंगें कि आखिर क्यों विज्ञान हमारे लिए इतना महत्वपूर्ण है और किस प्रकार विज्ञान हमसे और हमारे जीवन से जुड़ा हुआ है। इन सभी बातों के बारे में अभी हम विस्तार से चर्चा करने वाले है।

दैनिक जीवन में विज्ञान

दोस्तों हमारे सुबह उठने से लेकर रात तक हम बहुत से वैज्ञानिक उपकरणों का उपयोग करतें ही है। जैसे कि फ्रिज, कूलर, एसी, घड़ी, लाईट, साबुन आदि। आप अपने दैनिक जीवन में उपयोग में लाने वाली बहुत सी चीजों को देख सकते है तो पूर्ण रूप से विज्ञान पर आधारित है। चाहे वह छोटी से छोटी सूई हो या बड़ी मोटरगाड़ी। हमारे चारों ओर विज्ञान किसी न किसी रूप में व्यापत रहता ही है।

शिक्षा के क्षेत्र में विज्ञान

दोस्तों एक जमाना था जब शिक्षक गुरूकुल में पठाया करते थे। जहाँ पर गुरु से ज्ञान प्राप्त करने के लिए शिष्य गुरुकुल में ही रहा करते थे और गुरुकुल का कार्यभार ही संभालते थे। परन्तु आज के समय में विज्ञान ने शिक्षा के क्षेत्र में एक डिजिटल क्रांति ला दी है अब बच्चे अपने घरों में मोबाइल, लेपटाॅप, कम्प्यूटर, टेबलेट आदि पर आॅनलाइन पढ़ सकतें है। इसी के साथ में आज विद्यालयों में भी बच्चों को डिजिटल बाॅर्ड पर पढ़ाया जाता है।

जहाँ पर लकड़ी के बाॅर्ड पर अपना विद्यालय का काम चाॅक या कलम के द्वारा स्याही से लिखा करते थे वहीं आज हम कागज पर पेन या पेंसिल से लिख रहें है। इसमें भी विज्ञान का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान

दोस्तों चिकित्सा के क्षेत्र में विज्ञान ने बहुत ही ज्यादा तरक्की की है। क्योंकि चिकित्सा के क्षेत्र में होने वाले सभी प्रयोगों और कारणों के निर्वाण में विज्ञान ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है। जैसा कि आप जानते ही होंगें कि सुश्रुत के समय से ही भारत में चिकित्सा पद्धति चली आ रही है। उस समय में चिकित्सा पद्धति की क्रांति का आरम्भन ही था। उस समय चिकित्सा के क्षेत्र में तकनीकी साधनों की कम थी। परन्तु चिकित्सा पद्धति पूर्ण रूप से कारगर थी।

आज के समय में बहुत सी चिकित्सा मशीने आ चुकी है जो उस समय की चिकित्सा पद्धति को आसान बना रही है। जैसा कि भिन्न प्रकार की दवाइयाँ, सीरिंज, इंजेक्शन, विभिन्न प्रकार की सर्जरी और ट्रांसप्लांट आदि बहुत से नए विषय आज की चिकित्सा पद्धति में जुड़ चुकें है।

आज किसी भी बिमारी के इलाज के लिए बहुत सी प्रकार की मशीने उपयोग में लाई जाती है जो व्यक्ति के शरीर की पूर्ण जानकारी हर एक सैकण्ड में देती रहती है और रोग के निवारण में भी कारगर है।

हृदय प्रत्यारोपण, आँखों के आॅपरेशन और कई प्रकार बड़े-बड़े आॅपरेशन आदि सभी विज्ञान के कारण ही संभव हो पाए है।

मनोरंजन के क्षेत्र में विज्ञान

दोस्तों मनोरंजन के क्षेत्र में भी विज्ञान ने काफी तरक्की की है। आज मनोरंजन के लिए विज्ञान के द्वारा ही रेडियो, टीवी, मोबाइल, सिनेमा, वर्चुअल गेमस आदि का सृजन किया जा चुका है और भविष्य में भी हमें इसीप्रकार के बहुत से उपकरण देखने को मिलने वालें है।

मनोरंजन के साधन अभी बदल चुके है। जहाँ हमारे मनोरंजन के साधन खिलौने और विभिन्न प्रकार के शारीरिक खेल हुआ करते थे, वे आज कम ही मात्रा में खेलें जाते है। इसका कारण भी विज्ञान ही है।

अनुसंधान के क्षेत्र में विज्ञान

दोस्तों अनुसंधान के क्षेत्र में विज्ञान दिन-प्रतिदिन नई-नई खोजें करता ही रहता है। नई तकनीक की खोज आज हर दिन हमने देखने को मिलती ही है। आज विज्ञान की सहायता से ही हम ब्रह्माण्ड के बारे में जान चुकें है। यह विज्ञान ही है जिसकी सहायता से हमारे देश के द्वारा विभिन्न प्रकार के उपग्रह चन्द्रमा पर भेजे गए। इसी के साथ मंगल ग्रह पर पहुँचना भी सफल रहा। यह सब कार्य विज्ञान के कारण ही सम्भव हो चुका है।

संचार के क्षेत्र में विज्ञान

दोस्तों पहले के समय में लोग अपने संदेशों को एक-स्थान से दूसरे स्थान तक भेजने के लिए पशु और पक्षियों का उपयोग करते थे। जब थोड़ा विकास हुआ तक चिट्ठियाँ लिखी जाने लगी, जिनके एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाने का कार्य डाकिये करते थे। एक चिट्ठि को एक स्थान से दूसरे स्थान पर पहुँचने में हफ्तों लग जाते थे। परन्तु अभी के समय में विज्ञान ने बहुत तेजी से नई तकनीक का आविष्कार कर लिया है। जिसमें ईमेल, टेलीफोन, मोबाइल, वीडियोकाॅलिंग आदि शामिल है। जो आधुनिक संचार के साधन बन चुकें है।

यातायात के क्षेत्र में विज्ञान

दोस्तों वो दिन थे जब बेल गाड़ियाँ और ऊँट आदि पशु संचार के साधन हुआ करते थे। पहले की गाड़ियों के टायर लकड़ी के बने होते थे, जिन्हें पशुओं के द्वारा खींचा जाता था। एक स्थान से दूसरे स्थान तक जाने में महिनों लग जाते थे और काफी समय भी लग जाता था। परन्तु विज्ञान की नई तकनीकों जैसे मोटरसाइकिल, कार, बस, ट्रक, ट्रेन, जहाज आदि ने इस कार्य को भी बिल्कुल सहज बना दिया है। इनकी सहायता से हम कुछ घंटों में ही मीलों दूर जा सकतें है।

नोट: आदिमानवों के द्वारा पहियें की खोज यातायात के क्षेत्र में एक क्रांति थी। जिसको विज्ञान ने आगे बढ़ावा दिया।

रक्षा के क्षेत्र में विज्ञान

दोस्तों रक्षा के क्षेत्र में सर्वप्रथम मानव के द्वारा पत्थरों और लकड़ी का उपयोग किया गया। तत्पश्चात् विकास के दौर के साथ विज्ञान के द्वारा छोटे पिस्तोल और बन्दूक बनाई गई जिससे एक समय में केवल एक ही गोली निकलती थी।

जब किसी देश के लिए एक देश से दूसरे देश के बीच रक्षा के मुद्दे कड़े होतें गए। तब विज्ञान के द्वारा शक्तिशाली रक्षा पद्धति का जन्म हुआ। जो मिसाइलों, आधुनिक हथियारों, परमाणु बमों और जासूस ड्रोनस के रूप में हमारे सामने आया। इस तरह रक्षा के क्षेत्र में भी विज्ञान ने अपना महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

रोबोट (Robot)

दोस्तों रोबोट एक स्वचालित मशीन है जिसका उपयोग उपरोक्त सभी क्षेत्रों में हो रहा है। यह भी विज्ञान की एक महत्वपूर्ण खोजों में से एक है। यह मशीन छोटे से छोट और बड़े से बड़े कार्य कर सकता है। इन्हें रोबोट कहा जाता है। हाल ही में विज्ञान के द्वारा रोबोटस में भी भावनाएँ उत्पन्न करने के प्रयास जारी है ताकि वे अपने निर्णय स्वयं और सही ले सकें।

तो दोस्तों आज के आर्टिकल में हमने विज्ञान के बारे में जानकारी प्राप्त की। विज्ञान क्या है इसके बारे में बहुत अच्छे से विस्तार से जाना। अगर आपको यह आर्टिकल अच्छा लगा तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरूर शेयर करें तथा किसी भी प्रकार के प्रश्न के लिए नीचे काॅमेंट बाॅक्स में काॅमेंट जरूर करें, हम आपके प्रश्न का उत्तर अवश्य देंगें। और इसीप्रकार की बेहतरीन जानकारी के लिए हमारे साथ बनें रहें।

धन्यवाद !

Read More :

 

1 thought on “विज्ञान किसे कहते हैं : विज्ञान की परिभाषा क्या है ? (What is Science in Hindi) व्हाट इस साइंस इन हिंदी”

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Scroll to Top